Pages

Monday, February 27, 2012

मुझे तुम्हे भूलना होगा !

नाज़ था मुझे मेरी मोहब्बत पर

उस बेपरवाह से मगर उम्मीद थी कुछ कम

पूछा मैंने, उस से हंस कर

याद भी करोगे कभी तुम मुझे

मेरे जाने के बाद

उसने कहा , कैसे?

उसके लिए पहले मुझे तुम्हे भूलना होगा !

No comments:

Post a Comment